मंगलवार, 8 अगस्त 2017

शिखरिणी छंद


शिखरिणी छंद---रक्षाबंधन पर

डॉ. भारती वर्मा बौड़ाई
देहरादून, उत्तराखंड
1--
रेशम सूत्र
बनता नेह डोर
संबंध गूढ़।
------
2--
भाई बहन
प्रफुल्लित हैं दोनों
राखी पहन।
-----
3--
शीश चंदन
सजती हाथ राखी
भाई मगन।
-----
4--
सजाए थाली
रोली चावल राखी
बैठी बहना।
-----
5--
चाहे बहना
रहे समृद्धि प्रेम
भाई अँगना।
------
6--
रहे मायका
बना सदा भाई से
चाहे बहना।
------
7--
हों भाई भाभी
बच्चे भी साथ तभी
रक्षाबंधन।
-------
8--
मिटें दूरियाँ
रक्षा सूत्र पहुँचे
लेकर नेह।
------
9--
बदला रूप
खिले रक्षासूत्र ले
नई पहचान।
------
10--
न हो सीमित
संबंध बनें सब
स्नेह बँधन।
------
11--
भुलाएँ सब
आपसी वैमनस्य
मनाएँ राखी।
-----
12--
अभयदान
दें प्रकृति को बाँध
रेशम सूत्र।
-----
13--
रक्षा संकल्प
लेकर सभी जन
हों कटिबद्ध।
--------
14--
कहे त्योहार
रखना सदा याद
प्रेम अपार।
------
15---
राखी का मोल
भावनाएँ जिसमें
भरी अमोल।
------------------------------



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें