शनिवार, 5 अगस्त 2017

अनावृत


कंचन लता जायसवाल 
 चित्रकार की तस्वीर पूरी हो चुकी थी.
अब उसकी प्रसिद्धि पूरे विश्व में थी.
उसके चित्रों की चहुँ ओर धूम मची थी.
नारी –देह द्वारा विभिन्न मनोभावों के चित्रण में उसने कुशलता हासिल कर ली थी.
उसके कैनवास की नायिकाएँ उसकी अनोखी प्रेमिकाएँ थी.
मूल्य बदल चुके थे.
कैनवास पर प्रेमिकाएं अनावृत हो रही थीं.
प्रेम बिक रहा था.........

यह भी पढ़ें ....................


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें