बुधवार, 12 जुलाई 2017

चंद्र मौलि पाण्डेय की कवितायें



जूनून 
छत की मुंडेर पर खड़ी वो
कभी हाथ हिलाती तो
कभी गले से स्कार्फ उतारकर उसको लहराती
लग रहा था कि कहीं 
उसके अंतर्मन में
आजादी का
कोई कीड़ा रेंग रहा है 
जो उसे प्रेरित कर रहा है
या उकसा रहा है 
कुछ ऐसा जुनून पैदा करने के लिए
जो उसके आत्मसम्मान को
हिमालय की चोटियों से भी 
ऊँचा पहुंचा सके
अल सुबह टूटे हाथ के साथ 
देख रहा हूँ उसे स्कूल जाते हुए 
शायद शाम को मुंडेर से गिर गई थी वो
मगर चेहरा 
ताजमहल का संगमरमर दमकता हुआ 
सीमा पर तैनात जवानों जैसा आत्मविश्वास
सालों बाद आज उसे फिर देखा
सिगरेट के अधजले टुकड़ों और 
शराब की टूटी बोतलों के बीच 
लाशों के ढेर के पास खड़ी 
वो तलाश रही थी 
अपने बाप की लाश
जो आज 
उसी  के हाथों मारा गया
ख़त्म कर दिया था उसने 
आतंकवाद का एक अध्याय
माँ को विधवा कर 
कई महिलाओं को बचाया होने से विधवा
सपने में भी देखा था उसने एक सपना
अपने खून से भी बढ़ कर है देश अपना
जूनून जारी था उसका 
आत्मविश्वास 
अब हिमालय को भी पिघला रहा था..

निराशा
---------

आज बाँट रहा था खाना
उसने कहा बेटा 
रोज रोज यहाँ ना आना,
तुम कर दोगे शायद मुझे कमज़ोर
हो गई थी मैं पूरी तरह कठोर,
नहीं छेड़ना चाहती 
वो दिल के पुराने तार
जब कभी था उस पूत के लिए 
इस अबला माँ का प्यार,
बंद कर ली हैं मैंने 
अपनी इच्छाएं और संवेदनायें
नहीं चाहती की कोई 
अवचेतन मन मे भी उसे जगाये,
तेरी चाहत और तेरा प्यार
कहीं खोल ना दे प्यार का द्वार,
और ..मैं कहीं फिर ठगी ना जाऊँ
पुत्र शब्द ही हमेशा के लिए भूल जाऊँ



विनाश 

तेज़ हवा की धुन पर 
नाच रहा था समुन्दर
अठखेलियां करती लहरें 
मदहोश कर रही थीं 
अट्टालिकाओं को झूमने के लिए
नतमस्तक हो गईं थीं वे
लहरों की मादकता मे
बारिश की घुड़की से 
भाग रहे थे बड़े बड़े पत्थर
नदी भी अपने पूरे यौवन पर थी
प्रेमी पत्थर डूब रहे थे इस यौवन मे
दरख़्त भी मदहोशी मे 
खो चुके थे अपनी जड़ें
प्रकृति थी गुस्से मे 
कर रही थी तांडव नृत्य
आईना दिखा रही थी
बता रही थी हमारे कृत्य
सुनामी हो या भूकंप
मच जाता हर तरफ हड़कम्प
प्रकृति है जीवन की सांस
छेड़ोगे तो होगा विनाश

 चंद्र मौलि पाण्डेय
                         उप वन संरक्षक
                               भोपाल
             chandrapandey@yahoo.com


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें