शनिवार, 1 जुलाई 2017

चलो लौट चले ब्लॉग की ओर - क्या आप भी ब्लॉग बना रहे हैं ?



संजीत शुक्ला 

आज ब्लॉगिंग दिवस है | ब्लॉग पर लिखना एक सुकून भरा अनुभव होता है | यहाँ लंबी पोस्ट पढ़ी भी जाती है और लिखी भी जाती है | फेसबुक एक चौराहे की तरह है | जहाँ चौपाल लगती है | लोग आते हैं थोड़ी देर बतियाते हैं , कुछ हंसी मजाक , कुछ सुख - दुःख का आदान प्रदान, तो कुछ छोटी - मोटी झड़प  | शोर भी कुछ ज्यादा ही होता है | फेसबुक के बाद आया व्हाट्स एप | जहाँ चौपाल छोटी जरूर है पर दिन में कई बार लग जाती है | ये कई बार लगने में  कई बार निरर्थक शेयरिंग भी होती है | जहाँ हम बिना पढ़े बस फॉरवर्ड  करते चलते हैं | जबकि  ब्लॉग है अपना घर | जिसे अपनी तरह से सजाते हैं और इत्मीनान से समय बिताते हैं | और आने वाले भी इत्मीनान से हमारी बात सुनते हैं | | हालांकि ब्लॉग हो , फेसबुक हो या व्हाट्स एप सबका अपना - अपना महत्व है | फिर भी ये तय है की छोटा बहुत छोटा पसंद अवश्य किया जाता है पर उसमें गहन चिंतन को समेटना अकसर मुश्किल होता है | इसलिए ब्लॉग पर पुन : लौटने की बात हो रही हैं |अगर आप ने अपना ब्लॉग अभी तक नहीं बनाया है तो आपके मन में इसे लेकर कुछ प्रश्न भी होंगे | जिनके उत्तर आपको इस लेख में मिलेंगे ....


 कहाँ से आया ब्लॉग शब्द

ब्लॉग शब्द अंग्रेजी के वेब-ब्लॉगका संक्षिप्त रूप है. इसकी शुरुआत 1998 ई. में हुई. ब्लॉग वेब-दुनिया पर उपलब्ध एक ऐसा प्लेटफार्म है जहाँ आप एक लेखक के रूप में अपनी बातों को पूरी दुनिया के समक्ष रख सकते हैं. ब्लॉग लिखना ही ब्लॉगिंग कहलाता है और लिखने वाला एक ब्लॉगर |
ब्लॉगिंग है बिलकुल मुफ्त
हाँ, ब्लॉगिंग करना बिल्कुल फ्री है. पर आजकल हर क्षेत्र में टर्म एंड कंडीशन का फंडा रहता है जो ब्लॉगिंग पर भी लागू होता है. आप बेहिचक ब्लॉगिंग प्लेटफार्म पर अपना अकाउंट बनाकर बिना पैसे लगाए ब्लॉगिंग कर सकते हैं पर यदि आप चाहें कि आपका ब्लॉग www.yourchosenname.com के फॉर्मेट में हो तो यह फ्री सर्विस में संभव नहीं होगा.
फ्री ब्लॉग www.yourchosername.blogspot.com   के फॉर्म में होगा. कस्टम डोमेन के लिए आपको होस्टिंग और डोमेन-नेम दोनों खरीदना पड़ेगा और इसका वार्षिक खर्च आपको लगभग 4000 रु. से 7000 रु. के बीच पड़ेगा. यदि आपको अपने चुने हुए नाम के साथ ब्लॉग प्लैटफ़ोर्म प्रोवाइडर का नाम लगाना आखर नहीं रहा है तो आप बेहिचक फ़्री-ब्लॉगिंग की शुरुआत कर सकते हैं | गूगल का blogger भी आपको ये सुविधा देता है | यहाँ ब्लॉग बनाना भी बहुत आसान है व् चलाना भी | इसके लिए आपको बहुत तकनीकी ज्ञान की भी आवश्यता नहीं है | और सच मानिये एक फ़्री-ब्लॉग और एक पेड-ब्लॉग को गूगल समान रूप से प्यार करता है | मतलब दोनों ही आपके लिखे कंटेंट के हिसाब से  सर्च लिस्ट में आते हैं |

कौन सा ब्लोगिंग प्लेटफोर्म अच्छा है
 blogging के लिए क्या बढ़िया है? WordPress या Blogger. कई बार इस प्रशन का उत्तर देना बड़ा कठिन होता है, Blogger Google का platform है, इसके SEO में ज्यादा लाभ हैं । मेरे विचार से ये बिलकुल तर्क हीन है  की आप कौन सा प्लेटफोर्म इस्तेमाल  कर रहें हैं, चाहे वह WordPress हो, Blogger हो इस और कोई भी platform हो, SEO इस बात पर निर्भर करती है कि आपने search engine के लिए अपनी site को कैसे configure किया है। WordPress आपको वो सब करने की आज़ादी देता है जो आप चाहते हैं, पर पर आपको आपका blog खुद मैनेज करना पड़ता है। आपको आपके Server पर WordPress install करना होगा और blog को maintain रखना होगा। यह काम टेक्निकल है, पर WordPress community के support के कारण आप सब कुछ बिना समय लगाये सीख सकते हैं।
यदि आप एक blog बना रहें है, ये सोच कर कि आपको उसकी पाठक संख्या बढ़ा कर उससे पैसे कमाने हैं, तो आपको self hosted WordPress blog prefer करना चाहिए। यदि आप एक कभी – कभी लिखने वाले लेखक हैं, , तो BlogSpot आपके लिए सही है।


अरे लिख तो लें पर हमें पढ़ेगा कौन ?
जब हम ब्लॉगिंग की अनोखी दुनिया में प्रवेश करते हैं तो एक ही प्रश्न उठता है की चलो ब्लॉग बना लें , लिख लें पर हम जैसे निरीह प्राणी जिसकी अरबों की इस दुनिया में कोई पहचान ही न हो तो उसका लिखा कोई पढ़े ही क्यों? लोग ब्लॉग पढेंगे तो अमिताभ बच्चन और किसी मशहूर व्यक्ति का मेरा क्यों? यदि आप ऐसा सोच रहे हैं तो यह एक बिलकुल गलत सोच है. आपके लिखने की कला और आपका क्रिएटिव माईंड आपको दुनिया में एक नयी पहचान दे सकता है. इस वेब-दुनिया में पाठकों की कोई कमी नहीं है. कमी है तो हममें है जो सब कुछ होते हुए भी श्रीगणेश करने से पहले ही घबरा जाते हैं | अगर आप भी ब्लॉगिंग करने जा रहे हैं तो थोडा सकारात्मक रुख इख्तियार करिए | अपने पर भरोसा रखिये | और जान लीजिये की अगर आपमें  टेक्निकल ज्ञान, आपकी पाक कला, औरों को सहयोग देने की प्रवत्ति है तो , आपकी आवाज़ आपको ब्लॉगिंग के उस शिखर पर पहुँचा सकती है , जहाँ एक सेलेब्रेटी खड़ा होता है |

क्या ब्लोगिंग से कमाई  भी होती है
                                                   आपने अक्सर सुना होगा की ब्लोगिंग से कमी होती है पर यह आप पर निर्भर करता है कि आप अपने ब्लॉग पर आने वाले ऑडियंस को किस तरह विवश करते हैं कि वह आपको कुछ आर्थिक सहयोग देकर ही आपके ब्लॉग से बाहर निकले | इसके लिए आप अपने ब्लॉग पर ई-बुकों का विक्रय कर सकते हैं. आप अपने ज्ञान को पी.डी.ऍफ़. फॉर्मेट में संकलित करके उसका विक्रय कर सकते हैं | आप अपने ब्लॉग पर अपने ग्राफिक डिजाइन या अपने द्वारा खींचे गए फोटोग्राफ्स भी बेंच सकते हैं | आप अपने ब्लॉग पर बच्चों कोपधा भी सकते हैं | गूगल ऐडसेन्सपैसा कमाने का सबसे प्रभावशाली जरिया है. गूगल एडसेंस आपके ब्लॉग को सर्वप्रथम जाँचता-परखता है. यदि उसे आपका ब्लॉग अच्छा लगे तो वह आपके अकाउंट को अप्रूव करके आपके पोस्टल अड्रेस पर एक कोड भेजता है जिसे आपको अपने ऐडसेंस अकाउंट पर डालना होता है. फिर आप अपने ब्लॉग पोस्ट पर गूगल ऐडसेंस (google adsense earning) का ऐड-कोड डालकर प्रति यूजर क्लिक से हर महीने एक सैलरीड पर्सन से भी अधिक कमा सकते हैं |
                    तो आप जान गए की ब्लोगिंग से कमाई भी होती है पर  बेहतर है आप इसे अपने पैशन के लिए इस्तेमाल करें | कमाई के चक्कर में आप क्वालिटी कंटेंट नहीं तैयार कर पायेंगे | जिसका प्रभव नकारात्मक ही होगा | तो जैसा की  थ्री इडियट के बाबा रणछोड़ दास कहते हैं की पैशन के पीछे भागो कामयाबी तुम्हारे पीछे भागेगी |


                           




9 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे बिल्कुल भी जानकारी नहीं है। कृपया बताने का कष्ट करें कि ब्लॉग कैसे बनाया जाता है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे बिल्कुल भी जानकारी नहीं है। कृपया बताने का कष्ट करें कि ब्लॉग कैसे बनाया जाता है!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी हम प्रयास करेंगे की ब्लॉगिंग कॉलम में आपको इसकी पूरी जानकारी उपलब्द्ध करायें .............धन्यवाद

      हटाएं
  3. सटीक जानकारी ... मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार .

    उत्तर देंहटाएं