गुरुवार, 15 जून 2017

मां






कवि मनोज कुमार

रूठने पर झट से मना लेती थी
मां दवा से ज्यादा दुआ देती थी
कुछ बात थी उसके हाथों में जो
भूख ही पेट से वो चुरा लेती थी
चोट कितनी भी गहरी लगी क्यों हो
फूंक कर झट से वो भगा देती थी
मां पढ़ी कम थी मेरी मगर
हर मर्ज की वो दवा देती थी
आंख से आंसू निकलते नहीं थे

आंचल वो झट से फिरा देती थी
कुछ कहता था मैं लब से मगर
खिलौना वही वो दिला देती थी
मुंह अंधेरे भी निकलूं जो घर से अगर
उठ कर खाना वो झट से बना देती थी
बहस कितनी भी कर लूं उससे मगर
मुस्कुरा कर सब वो भुला देती थी
मां दवा से ज्यादा दुआ देती थी।

परिचयश्री मनोज कुमार यादव प्रणवीर सिंह इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी में असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर कार्यरत हैंIउन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग में ऍम.टेक की उपाधि प्राप्त की है एवं विगत पंद्रह वर्ष से अध्यापन कार्य में संलग्न हैंIइंजीनियरिंग क्षेत्र में होने के बावजूद साहित्य में रूचि होने के कारण श्री मनोज कुमार ने हिंदी कविता के क्षेत्र में बहुत ही उल्लेखनीय कार्य किया है तथा विभिन्न सामाजिक एवं राजनैतिक मुद्दों पर अपनी कविताओं के माध्यम से समाज में जन जागरण का कार्य किया हैI

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें