बुधवार, 21 जून 2017

योग दिवस




डॉ. भारती वर्मा बौड़ाई
---------------
स्वस्थ
यदि रहना है तो
जीवन में
योग अपनाओ
इसको जीवन अंग बना कर
रोगों को दूर भगाओ
स्वस्थ शरीर में
स्वस्थ मन का
जब निवास होगा
स्वस्थ विचारों
सद्कर्मों का
अजस्र प्रवाह बहेगा
स्वयं करना
औरों को भी प्रेरित करना
जब सबका
लक्ष्य बनेगा
तभी देश का हर जन
स्वस्थ सुखी बन
नव उपमान गढ़ेगा
ब्रह्म मुहूर्त में 
उठ,  स्नान-ध्यान कर
सूर्य नमस्कार करने का
पक्का नियम बनाएँ
योग करें और 
रोज़ करें
अपना यह
धर्म बनाएँ
स्वस्थ निरोगी 
काया लेकर
कर्म करें कुछ ऐसे
घर, समाज और देश
सभी गर्वित हों जैसे
योग
स्वास्थ्य-प्रसन्नता 
की कुंजी है
सबको यह समझना है
स्वस्थ नागरिक
बन हम सबको
राष्ट्र-निर्माण में
जुट जाना है।
------------------------


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें