शनिवार, 6 मई 2017

निर्भया को न्याय है





रचयिता-----रंगनाथ द्विवेदी। जज कालोनी,मियाँपुर जौनपुर।
ये महज़ फाँसी नहीं--------------- उस निर्भया को न्याय है। जो चीखी,तड़पी,छटपटाई तेरी विकृत कुंठा के डाले गये वे सरिये, कितने घृणित थे! काश तुम्हारी माँ ने कहा होता, या तुमने-----------
अपनी सगी बहन के वे गुप्तांग याद किये होते, तो तुम्हारा ज़मीर कहता कचोटता, कि ये पाप है,अन्याय है और तुम कांप जाते! हां तुम्हारी पशुता व अमानवियता से, वे कुछ ही दिनो मे मर गई, लेकिन तुम तभी से मर रहे हो तील-तील, सच गलिजो़-------------- आज निर्भया की रुह खुश होगी, उसका गला रुंध आया होगा, ये तुम्हें महज़ फाँसी नही बेगैरतो बल्कि------ उस मासुम और बेगुनाह लड़की, निर्भया को न्याय है।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें