मंगलवार, 23 मई 2017

दो स्तन



ये महज कविता नही वरन रोंगटे खड़े करता एक भयावह यथार्थ है।

रंगनाथ द्विवेदी

कुछ भिड़ झुरमुट की तरफ देख, अचानक मै भी रुक गया-------- और जैसे ही मेरी नज़र उस झुरमुट पे पड़ी, उफ!मेरे रोंगटे खड़े हो गये, एक पैत्तीस साल की औरत का----------- विभत्स बलात्कार मेरे सामने था,
उसके गुप्तांग जख्मी थे, और उससे भी कही ज्यादा जख्मी थे----- उसके वे दो खुले स्तन। जिसपे पशुता के तमाम निशान थे, नोचने के,खसोटने के,दाँतो के बहुत मौन थे, लेकिन ये मौनता एक पिड़ा की थी, क्या?इसिलिये ईश्वर ने दिया था, इस औरत को---------- कि कोई अपनी पशुता से छिन ले,मसल दे इसके दो स्तन। जब पहली मर्तबा इसके बलात्कारी ने भी पिया होगा, अपनी नर्म हाथो से बारी-बारी------- अपनी माँ का दो स्तन! तब इनमे दुध उतरा था, क्यूं ?नहीं दिखा आखिर----- मसलते,कुचलते,नोचते वक़्त, शायद देखता तो कांप जाता, क्योंकि इसकी अपनी माँ के भी थे----- यही दो स्तन। इतना ही नही गर कल्पना करता, तो इसे दिखता------------ अपने ही घर मे अपनी बुआ,अपनी चाची और सीने पे दुपट्टा रंखे अपनी बहन के-- इसी बलात्कार की गई औरत की तरह, दुपट्टे के उस तरफ भी तो लटके है एै"रंग"----- यही दो स्तन। @@@रचयिता-----रंगनाथ द्विवेदी। जज कालोनी,मियाँपुर जौनपुर।



2 टिप्‍पणियां:

  1. जब समाज के अधिकांश पुरुषो में स्त्री भोग कर, मारने या फेक देने की वस्तु मानी जाती है, तो स्तन क्या नारी के कोई भी भाग आघातों से अछूता नहीं रह सकता. लोग अपने नारी सदस्यों को सुरक्षित समझते है. लेकिन वे मूर्ख होते है उनका परिवार भी दूसरे के लिए गैर होती है उन पर भी जुल्म हो सकता है. अत: जबतक कानूनी करवाही शीघ्र और सख्त नहीं होगी. नारी हिंसा का, कहानी या कविता का दर्दनाक पात्र होगी.

    उत्तर देंहटाएं