रविवार, 30 अप्रैल 2017

यादों के झरोखों से – प्रिंसेस डायना : एक परी कथा का दुखद अंत





कहानियाँ किसे नहीं पसंद होती | शायद कहानियाँ ही हैं जिसकी छह में बच्चे नानी – दादी के आस – पास घूमते रहते हैं |और वो भी तो पूरे चाव से परियों की कहानी सुनाती है तो कभी राजकुमार-राजकुमारी की। ऐसी ही कहानियों के बीच हमारा बचपन निकलता है। लेकिन इतिहास के पन्नों में आज ही के दिन एक ऐसी कहानी दर्ज़ है जो राजकुमार और राजकुमारी के अलग होने के बाद राजकुमारी के बहद दुखद अंत की कहानी है | पर अफ़सोस एक कहानी ही नहीं एक सच्चाई है | ३१ अगस्त की वो काली रात जब स्वप्नों की दुनियां से आई किसी पारी की तरह खूबसूरत राजकुमारी का दुखद अंत हुआ | उनको श्रधांजलि देते हुए आज व्ही कहानी दोहरा रहे हैं |

प्रिंस चार्ल्स रॉयल फैमेली से हैं,वे अपने लव अफेयर्स को लेकर काफी सुर्खियों में रहते थे। लेकिन शाही विवाह अधिनियम 1772 के तहत दुल्हन की प्रतिष्ठा को महत्वपूर्ण माना जाता था। इस अधिनियम के तहत प्रिंस को ऐसी दुल्हन चाहिए थी,जिसका शादी से पहले कोई अफेयर न हो। प्रिंस चार्ल्स जब पहली बार प्रिंसेस डायना से मिले तो वे अपनी बड़ी बहन सारा के दोस्त के रूप में मिले। उन्होंने पहले डायना को प्रेम या शादी की दृष्टि से नहीं देखा था। लेकिन धीरे-धीरे दोनों करीब आने लगे, दोनों एक दूसरे को डेट करने लगे।उनकी इसी डेटिंग के चलते वे प्रेस की नज़रों में भी आ गए लेकिन उनकी डेटिंग चलती रही। परिवार ने भी उन्हें इस रिश्ते के लिए सहमति दे दी तब प्रिंस चार्ल्स ने फरवरी 1981 में डायना के सामने शादी का प्रस्ताव रखा जिसे डायना ने स्वीकार किया। इसके बाद प्रिंस ने डायना के पिता से उनका हाथ मांगा और उन्हें मिल भी गया। इन सबकी मंजूरी के बाद क्वीन काउंसिल ने भी इस बात की सहमति दे दी। 29 जुलाई 1981 को ये दोनों शादी के बंधन में बंध गए।
इनकी शादी काफी यादगार थी और पूरी दुनिया में इसको लेकर काफी दीवानापन था। रॉयल परिवार की इस शादी का प्रसारण 74 देशों में किया गया था। उस समय करोड़ों लोग टीवी पर इस शादी को देख रहे थे। इनके अलावा भी इस शादी में मेहमान के रूप में कई देशों के राष्ट्रपति और बड़े अफसर शामिल हुए थे।प्रिंस और प्रिंसेस की इस जोड़ी ने,शादी के बाद किंगस्टोन पैलेस के करीब हाईग्रुव हाउस पर अपना घर बनाया था। उस समय एक फेमस फोटोग्राफर जो जानी-मानी हस्तियों की फोटो खींचता था, वो उनका पीछा करने लगा। पपराजी नाम का ये फोटोग्राफर अपने कैमरे के द्वारा इनकी हर चाल पर नज़र रखता था और लोगों तक इनकी ख़बरें पहुंचाता था। शादी के बाद ये कपल दो बच्चों के माता-पिता बने जो प्रिंस विलियम और प्रिंस हैरी हैं।
प्रिंस और प्रिंसेस की ये शादी ज़्यादा दिन नहीं चल सकी। शादी के कुछ सालों बाद दोनों में अलगाव होने लगा। अंत में इन दोनों ने अधिकारिक रूप से तलाक ले लिया। 29 जुलाई 1981 को हुई इस रॉयल शादी के 15 साल बाद प्रिंस चार्ल्स और प्रिंसेस डायना का डिवोर्स सभी के लिए आश्चर्यपूर्ण था। उस समय ये इंटरनेशनल मीडिया के लिए बहुत दिनों तक चलने वाला मसाला था।इनके तलाक के एक साल बाद 31 अगस्त 1997 को पेरिस में एक कार दुर्घटना में प्रिंसेस डायना की मौत हो गई। ये मौत अपने पीछे जाने कितने सवाल छोड़ गई।कथित तौर पर उस समय डायना अपने प्रेमी के साथ थीं और कोई उनका पीछा कर रहा था।उस पीछा करनेवाले शख़्स की वजह से ही उनकी कार की गति तेज़ हुई और अनियंत्रित होकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। डायना का चले जाना सारी दुनिया में उनके चाहने वालों को स्तब्ध कर गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें