मंगलवार, 7 फ़रवरी 2017

रोज डे - गुलाब पर सुविचार






ये आप पर है की आप शिकायत करें की गुलाब के साथ कांटे होते हैं या ख़ुशी व्यक्त करे की काँटों के साथ गुलाब भी होते हैं |
--------------------------

लाल गुलाब मौन रह कर भी प्रेम की वो भाषा बोलता है जिसे केवल दिल सुन  सकता है |
---------------------------

एक गुलाब की सुन्दरता व् सुंगंध केवल कुछ क्षण ही ठहरती है पर इसकी यादें हमेशा महकती रहती हैं |
-----------------------------------


एक गुलाब कभी सूरजमुखी की तरह खूबसूरत नहीं हो सकता न ही एक सूरज मुखी कभी गुलाब की तरह खूबसूरत  दिख सकता है , दोनों की अपनी सुन्दरता है \

------------------------------------

बनना है तो गुलाब की तरह बनो यह उनके हाथों में भी खुशबू छोड़ देता है जो इसे मसल देते हैं |

----------------------------

गुलाब को कभी अपना प्रचार करने की जरूरत नहीं पड़ती | इसकी खुशबू खुद ही सबको खींच कर ले आती है |
---------------------------------


सत्य और गुलाब , दोनों के कांटे की तरह चुब्ते हैं |

________________________

शब्द गुलाब की तरह होते हैं इन्हें अपनि खुस्बून और सुन्दरता के साथ पूरी दुनिया में बिखेर दो |
--------------------------------------

जो गुलाब से प्यार करता है उसमें धैर्य अवश्य होगा और काँटों का सामना करने का सहस भी
_______________________________

मैं अपने गले में हीरों का हार पहनने की अपेक्षा अपनी मेज पर गुलाब के फूल रखना ज्यादा पसंद करुँगी |

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें