मंगलवार, 23 अगस्त 2016

जिन्दगी कुछ यूं तन्हा होने लगी है










जिन्दगी कुछ यूं तन्हा होने लगी है
अंधेरों से भी दोस्ती होने लगी है 
चमकते उजालों से लगता है डर
हर शमां वेबफा सी लगने लगी है 

सच्चाइयों से जबसे पहचान होने लगी
इक सजा इस तरह से जिंदगी हो गई
बहारों के मौसम देखे थे जहां
कितनी बंजर आज वो जमीन हो गई


ओमकार मणि त्रिपाठी 

प्रधान संपादक - अटूट बंधन  एवं सच का हौसला 





हमारा वेब पोर्टल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें