बुधवार, 6 जुलाई 2016

हामिद का चिंमटा

संगत का
साथी हो सकता है यह
औखत पर औज़ार

फकीर का मँजीरा
सिपाही का तमंचा



सबसे सलोना
यह खिलौना
जो साबुत रहेगा
अन्धड़ पानी तूफ़ान में
सहता सारे थपेड़े

कविता मेरे लिए
तीन पैसे का चिमटा है
जिसे बचपन के मेले में
मोल लिया था मैंने

कि जलें नहीं रोटियाँ सेंकने वाले हाथ
कि दूसरों को दे सकूँ अपने चूल्हे की आग !


प्रेम रंजन अनिमेष 
कविता कोष से साभार 

यहाँ भी  पधारें ..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें