शुक्रवार, 6 मई 2016

कैंसर






कैंसर
बस एक ही शब्द 
काफी था सुनने के लिए 
अनसुनी ही रह गयी 
उसके बाद दी  गयी सारी  हिदायते 
पहली दूसरी या तीसरी स्टेज का वर्णन 
बस दिखाई देने लगी
मौत 
रेंगते हुए आगे बढती 
किसी सौ बाहों वाले केंकेडे  की तरह 
जो अपनी  बाँहों के शिकंजे में 
कस कर चूस लेगा जीवन 
आश्चर्य 
की कैंसर 
सिर्फ शरीर को ही नहीं होता 
यह होता है 
रिश्तों को 
हमारे द्वरा शुरू किये गए कामों को
जिसकी नींव रखी गयी होती है  
सपनों की जमीन पर 
पर उसमें भी
जाने कैसे  
नज़रंदाज़  हो जाती हैं 
पहली , दूसरी और तीसरी अवस्थाएं 
गहराता जाता है रोग 
और बढ़ चलता है जीवन 
मृत्यु की तरफ 
मृत्यु अवश्य्समाभावी है 
परन्तु 
अपने को  
सपने को 
और रिश्तों को 
यूँ पल -पल मरते देखना 
बहुत पीड़ा दायक है 
बहुत पीड़ा दायक है ........
नेहा बाजपेयी 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें