शनिवार, 30 अप्रैल 2016

इंतजार






इन्तजार 
कोई भी करे 
किसी का भी करे 
पीड़ादायी और कष्टदायी ही होता है 
लेकिन बदनसीब होते हैं वो लोग 
जिनकी जिन्दगी में किसी के इन्तजार
का अधिकार नहीं होता
क्योंकि इन्तजार 


रिश्तो की प्रगाढ़ता का पैमाना भी है
कोई गैरो का नहीं
सिर्फ अपनों का ही इन्तजार करता है
और जैसे - जैसे प्रगाढ़ होता जाता है कोई रिश्ता
उसी अनुपात में बढ़ता जाता है इंतजार
सूनी हो जाती हैं आँखे
जब उन आँखों को नहीं रहता
क्रिया पर प्रतिक्रिया या
किसी के आगमन
का इन्तजार
और ये सूनी आंखे ,भावशून्य आँखे
ह्रदय को संवेदनहीन बनाने लगती है
और शायद इसीलिये
इन्तजारविहीन आदमी
जिन्दा लाश बन जाता है
क्योंकि लाशो को किसी का भी
इन्तजार नहीं रहता


ओमकार मणि त्रिपाठी 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें