रविवार, 17 अप्रैल 2016

शब्द सारांश का भव्य वार्षिकोत्सव एवं पुस्तक लोकार्पण समारोह


Displaying DSC_1187 (2).JPG
Displaying DSC_1187 (2).JPG
Displaying DSC_1187 (2).JPG



शब्द सारांश का भव्य वार्षिकोत्सव एवं पुस्तक लोकार्पण समारोह दस अप्रैल रविवार को नगर की प्रसिद्ध साहित्य एवं सामाजिक संस्था शब्द सारांश का द्वितीय वार्षिकोत्सव संपन्न हुआ .कार्यक्रम का शुभारम्भ देह्दानी डॉ रामावतार शर्मा ,तहसीलदार एवं साहित्यकार राकेश त्यागी ,डॉ राजेन्द्र मिलन ,एवं डॉ अमी आधार ने दीप प्रज्ज्वलित करके किया .उसके बाद पुष्प माला ,सम्मान वस्त्र एवं श्री फल से अतिथियों का स्वागत किया गया कार्यक्रम के संचालन की डोर मेरठ की गायिका और संचालक डॉ शुभम त्यागी ने थामी .कार्यक्रम के प्रथम सत्र में संस्था अध्यक्ष सपना मांगलिक द्वारा संपादित कहानी संग्रह बातें अनकही एवं उनके ही द्वरा रचित हाइकु संग्रह "बोन्साई "का विमोचन किया गया .पुस्तकों की समीक्षा के क्रम में डॉ अमी आधार ने पुस्तक बोन्साई के हाइकु की भूरी भूरी प्रशंसा करते हुए

कहा कि " हाइकु का यूँ तो प्रचलन तेजी से बढ़ रहा है मगर बेहतरीन शिल्प और
बेजोड़ बिम्ब सपना मांगलिक के लेखन की विशेषता है .वह  न केवल आलेख ,कथा
,ग़ज़ल और माहिया के क्षेत्र में अपनी जादूगरी दिखा चुकी है अपितु बोन्साई
हाइकु संग्रह से उन्होंने साबित किया है कि उनकी पकड़ और महारत साहित्य की
हर विधा में है .कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डॉ राजेन्द्र मिलन ने
सपना मांगलिक के कथा संग्रह "बातें अनकही " के सम्पादकीय की तारीफ़ करते
हुए कहा कि एक संकलन को पठनीय बनाने  में उसके संपादक की अहम् भूमिका
होती है पुस्तक की संपादक सपना ने नए लेखकों की एक से बढ़कर एक कहानियाँ
इस संकलन के लिए चुनी हैं जो उनके अंदर की सम्पादकीय प्रतिभा को उजागर
करती हैं .प्रकाशक पवन जैन और संभली से आये dm राकेश त्यागी ने भी
पुस्तकों के सन्दर्भ में अपने विचार रखे .साथ ही कहा कि शब्द सारांश
साहित्य संस्था नए लेखकों को लेखन के क्षेत्र में प्रोत्साहित करने के
लिए प्रतिवर्ष साझा संकलनों का प्रकाशन कर अपने नाम और काम को सार्थक कर
रही है ,जो कि सराहनीय है .द्वीतीय सत्र में शब्द सारांश द्वारा मेरठ से
आयीं गायिका और संचालक डॉ शुभम त्यागी एवं राकेश त्यागी का सम्मान किया
गया और सन्मति पब्लिशिंग हाउस और आगमन साहित्य परिषद् प्रमुख पवन जैन ने
आगरा के प्रसिद्ध समाज सेवी एवं देह्दानी डॉ रामावतार शर्मा को लाइफ टाइम
अचीवमेंट सम्मान से नवाजा .कार्यक्रम के तृतीय सत्र में रंगारंग काव्य
गोष्ठी प्रारंभ हुई काव्य क्षेत्र के बड़े बड़े सूरमाओं यथा जबलपुर से आये
व्यंग्य के महारथी नरेंद्र शर्मा ,मेरठ की गायिका शुभम त्यागी ,अशोक रावत
,हरिमोहन कोठिया  , त्रिमोहन तरल ,सुनीत शर्मा  ,  ने अपनी ग़ज़लों ,गीतों
,कविता और पैरोडी से समां बाँध दिया डॉ भावना महरा ,जी पी मोर्य ,राकेश
निर्मल ,सलीम साहब ,रति शर्मा  श्रुति सिन्हा , कबीर ,सुनीता सिंह
,निवेदिता धनगर  ,कांची सिंघल , डॉ शेषपाल सिंह शेष ,राजबहादुर राज
इत्यादि ने भी काव्य के ऐसे रंग बिखराए की हर तरफ से वाह - वाह की आवाजें
और तालियों की गडगडाहट से हॉल गूँज उठा .और तपती गर्मी में बारिश की
रुनझुन ठंडक का आभास होने लगा .संस्था की उपाध्यक्ष श्रुति सिन्हा ने
कार्यक्रम के समापन पर धन्यवाद ज्ञापित किया .
सपना मांगलिक
संस्थापक /अध्यक्ष
शब्द सारांश संस्था
मोबाइल -९५४८५०९५०८

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें