रविवार, 28 फ़रवरी 2016

एस मोहिन्दर- जिसने मधुबाला के विवाह प्रस्ताव को ठुकराया







बेमिसाल हुस्न की मलिका मधुबाला से शादी का प्रस्ताव मिलने पर ऐसा शायद ही कोई व्यक्ति होता, जो उसे ठुकराने का ख्याल तक अपने दिल में ला पाता लेकिन फिल्म इंडस्ट्री में एक शख्स ऐसा भी था जिसने इस मशहूर अदाकारा से मिले विवाह प्रस्ताव को काफी सोच, विचार के बाद ठुकराने का हौसला दिखाया था। वह शख्स थे संगीतकार एस मोहिन्दर।

एस मोहिन्दर के नाम से आज की पीढी़ शायद ही परिचित हो। उन्होंने 1940 से 1960 के दशक में कुछ चुनींदा फिल्मों में बेहतरीन संगीत दिया था और कैरियर के शिखर पर वह अमेरिका में बस गए थे। '

शीरीं फरहाद' फिल्म में उनके स्वरबद्ध गीत काफी लोकप्रिय हुए थे। इनमें लता मंगेशकर का गाया और मधुबाला पर फिल्माया गुजरा हुआ जमाना आता नहीं दोबारा हाफिज खुदा तुम्हारा सदाबहार गीतों में शामिल है।

कनाडा के टोरंटो की एक लेखिका इकबाल सिंह महाल ने अपनी पंजाबी पुस्तक 'सुरों दे सौदागर' में अभिनेत्री मधुबाला से एस मोहिन्दर को मिले विवाह प्रस्ताव की घटना का जिक्र किया है। मधुबाला ने लंबे-ऊंचे कद के खूबसूरत एस मोहिन्दर के सामने शादी का प्रस्ताव रखा था जबकि वह अच्छी तरह से जानती थीं कि एस मोहिन्दर का सुखमय वैवाहिक जीवन है और उनके बच्चे भी हैं।

मधुबाला ने उनकी पत्नी के गुजारे और उनके बच्चों की पढा़ई-लिखाई के लिए हर महीने आर्थिक सहायता के रूप में भारी-भरकम रकम देने की पेशकश भी की थी। एस मोहिन्दर मधुबाला से मिले विवाह प्रस्ताव को एकदम नहीं ठुकरा पाऐ। वह कई दिन तक इस पर विचार करते रहे और आखिरकार अपनी जिन्दगी का सबसे अहम फैसला करते हुए उन्होंने मधुबाला से 'नहीं' कहने की हिम्मत जुटा ही ली।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें