शनिवार, 14 नवंबर 2015

बाल दिवस पर विशेष कविता : पढो और बढ़ो :डॉ भारती वर्मा बौड़ाई

पढ़ो,
बढ़ो,
जीवन के
दुर्गम पर्वत चढ़ो।
मिलें
बाधाएँ
रौंद उन्हें
नव पथ गढ़ो।

दिखे
कहीं
अन्याय, सहो न
आगे बढ़ लड़ो।
पथ
अपना
चुन, उस पर
अकेले ही बढ़ो।
अँधियारा,
डरना कैसा?
अपना
दीपक आप बनो।
रंग
भले ही
हों कितने भी
बस भोलापन चुनो।
------------------------
कॉपीराइट@डॉ.भारती वर्मा बौड़ाई।


1 टिप्पणी: