सोमवार, 5 अक्तूबर 2015

जीवित माता -पिता की अनदेखी और मरने के बाद श्राद्ध : चन्द्र प्रभा सूद



                                                         Chander Prabha Sood

पितर पक्ष यानि श्रादों का पक्ष इन दिनों चल रहा है। आप सभी मित्रों से अनुरोध है कि जो साक्षात जीवित पितर आपके अपने घर में विद्यमान हैं उनके विषय में विचार कीजिए। यदि आपको श्राद्ध करना ही है तो उन जीवितों का कीजिए। श्राद्ध का यही तो अर्थ है न कि अपने पितरों को श्रद्धा पूर्वक अन्न, वस्त्र, आवश्यकता की वस्तुएँ तथा धनराशि दी जाए।
        आपके घर में जो माता-पिता आपकी स्वर्ग की सीढ़ी हैं उन्हें वस्त्र दीजिए, उनकी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए उन्हें धन दीजिए, उनके खानपान में कोई भी कमी न रखिए, उनके स्वास्थ्य की ओर सदा ध्यान दीजिए। यदि वे अस्वस्थ हो जाते हैं तब उनका अच्छे डाक्टर से इलाज करवाइए तभी आपका श्राद्ध करना सही मायने में सफल हो सकेगा।

           यदि जीवित पितरों की ओर से विमुख होकर मृतकों के विषय में सोचेंगे तो आपका सब किया धरा व्यर्थ हो जाएगा। जो पुण्य आप ऐसा करके कमाना चाहते हैं वह सब पाप में बदल जाएगा और आप अपयश के भागीदार बन जाएँगे। उसका कारण हैं कि आप पितरों के उपयोग में आने वाली जो भी सामग्री उन तथाकथित ब्राह्मणों के माध्यम से मृतकों को भेजना चाहते हैं वह तो उन तक नहीं पहुँचेगी। वे ब्राह्मण तो इसी भौतिक जगत में खा-पीकर उसका उपभोग कर लेंगे।
           आज अधिकांश ब्राह्मण नौकरी अथवा अपना व्यवसाय कर रहे हैं। उन्हें ऐसे भोजन की आवश्यकता नहीं है। बहुत से ब्राह्मण आजकल शूगर जैसी बीमारियों से ग्रसित हैं। वे हर भोज्य पदार्थ को नहीं खा सकते बल्कि खाने में परहेज करना पड़ता है, मीठे का तो खासकर। इन दिनों वे इतने व्यस्त रहते हैं कि बुलाने पर कह देते हैं कि थाली घर भिजवा दो।
          ऐसे ब्राह्मणों के पीछे फिरते हुए लोग अपने घर में आने के लिए अनावश्यक ही उनकी मिन्नत चिरौरी करते हैं।
         परन्तु अपने घर में विद्यमान ब्राह्मण स्वरूप माता-पिता को दो जून का भोजन खिलाने में शायद उनके घर का बजट गड़बड़ा जाता है। इसीलिए उनको असहाय छोड़ देते हैं और स्वयं गुलजर्रे उड़ाते हैं, नित्य पार्टियों में व्यस्त रहते हैं, शापिंग में पैसा उड़ाते हैं। फिर उनके कालकवलित (मरने) होने के पश्चात दुनिया में अपनी नाक ऊँची रखने के लिए लाखों रुपए बरबाद कर देते हैं और उनके नाम के पत्थर लगवाकर महान बनने का यत्न करते हैं। इस बात को हमेशा याद रखिए कि माता-पिता का तिरस्कार कर ऐसे कार्य करने वाले की लोग सिर्फ मुँह पर प्रशंसा करते है और पीठ पीछे निन्दा। 
          माफ कीजिए मैं कभी ऐसे आडम्बर में विश्वास नहीं करती। मुझे समझ में नहीं आता कि आपने किसके सामने स्वयं को सिद्ध करना है? आपका अंतस तो हमेशा ही धिक्कारता रहेगा। अगर समाज में इस बात का लौहा मनवाना है कि आप बड़े ही आज्ञाकारी हैं, श्रवण कुमार जैसे पुत्र हैं तो उनके जीवित रहते ऐसी व्यवस्था करें कि जीवन काल में उन्हें किसी प्रकार की कोई कमी न रहे। इससे उनका रोम-रोम हमेशा आपको आशीर्वाद देता रहे। उनके मन को  अनजाने में भी जरा-सा कष्ट न हो।
         हमारे ऋषि-मुनियों और महान ग्रन्थों ने माता और पिता को देवता माना है। उस परमात्मा को हम मनुष्य इन भौतिक आँखों से देख नहीं सकते परन्तु ईश्वर का रूप माता-पिता हमारी नजरों के सामने रहते हैं। जो बच्चे माता और पिता की पूजा-अर्चना करते हैं अर्थात सेवा-सुश्रुषा करते हैं उनके ऊपर ईश्वर की कृपा सदा बनी रहती है। ऐसे बच्चों का इहलोक और परलोक दोनों ही सुधर जाते हैं।
चन्द्र प्रभा सूद

2 टिप्‍पणियां:

  1. आजकल सबकुछ व्यापार हो गया है, भक्ति, पूजा, दिखावा और स्वार्थसिद्धि के साधन हो गया है. पुजारियों का पांव पड़ने, मिन्नते करने में तथा दक्षिणा देने में कोई कसर नहीं. छोड़ते । जबकि पुरोहित खुद नही जानते हैं कि अपने को अड़चनों, दुखो, हलातो से कैसे बचाये तथा स्वर्ग में अपना स्थान आरक्षित कर पाये है या नहीं' । आपका दर्द और व्याकुलता इस अज्ञानता के प्रति उचित है. जबतक मानव कर्त्यव्योन्मुख नहीं होता और नैतिकता का मूल्य नही समझ सकता, हिंसा क्रूरता बढ़ती जाएगी और कई विकृत रूप धारण करेगें|
    सच्चाई में विश्वास करने सीखने पर ही माता-पिता का महत्व को समझने एवं सेवारत हो सकते है|
    आशा करते है, कि आपके इस पीड़ा से स्त्रावित सुन्दर लेख लोगो को सोचने के लिए विवश करेगी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आजकल सबकुछ व्यापार हो गया है, भक्ति, पूजा, दिखावा और स्वार्थसिद्धि के साधन हो गया है. पुजारियों का पांव पड़ने, मिन्नते करने में तथा दक्षिणा देने में कोई कसर नहीं. छोड़ते । जबकि पुरोहित खुद नही जानते हैं कि अपने को अड़चनों, दुखो, हलातो से कैसे बचाये तथा स्वर्ग में अपना स्थान आरक्षित कर पाये है या नहीं' । आपका दर्द और व्याकुलता इस अज्ञानता के प्रति उचित है. जबतक मानव कर्त्यव्योन्मुख नहीं होता और नैतिकता का मूल्य नही समझ सकता, हिंसा क्रूरता बढ़ती जाएगी और कई विकृत रूप धारण करेगें|
    सच्चाई में विश्वास करने सीखने पर ही माता-पिता का महत्व को समझने एवं सेवारत हो सकते है|
    आशा करते है, कि आपके इस पीड़ा से स्त्रावित सुन्दर लेख लोगो को सोचने के लिए विवश करेगी।

    उत्तर देंहटाएं