बुधवार, 9 सितंबर 2015

सफलता पर सद्विचार

.









.पैसा और सफलता किसी को बदलता नहीं है ,केवल यह उसे बाहर निकालता है जो पहले से था

..हर दिन ८६ ,४०० सेकंड्स होते हैं पर इसका कोई मतलब नहीं है अगर आप उसे इस्लेमाल न करे

..हर दिन ८६ ,४०० सेकंड्स होते हैं पर इसका कोई मतलब नहीं है अगर आप उसे इस्लेमाल न करे

..जिनको मंजिल तक पहुंचना होता है वो शिकवो शिकायतों में नहीं उलझे रहते

.....सफलता तुम्हारा परिचय दुनिया से करवाती है और असफलता दुनिया का परिचय तुमसे करवाती है

.....सफलता के लिए लक्ष्य पर फोकस जरूरी है


.....असफलता का समय ..... सफलता के बीज बोने का सबसे अच्छा समय है

........असफलता ,सफलता का विलोम नहीं उसका एक हिस्सा है.

.......सफलता परछाई की तरह है ,अगर आप इसे पकड़ने की कोशिश करेंगे तो कभी सफल नहीं होंगे | आप बस अपने रास्तेपूरे मन से चलते जाइए ,सफलता खुद ब खुद आप के पीछे चलती जायेगी

........सफलता का एक पल असफलता के कई वर्षों की कीमत चुका देता है |

अगर आप भी अपनी रचनायें( किसी भी विषय पर स्तरीय ) अटूट बंधन ब्लॉग पर प्रकाशित करवाना चाहते हैं तो हमें editor.atoot bandhan@gmail.com पर भेजे 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें