बुधवार, 26 अगस्त 2015

सद्विचार






कभी कभी आप को लोगों से उम्मीद छोड़ देनी पड़ती है, इसलिए नहीं कि आप परवाह नहीं करते, बल्कि इसलिए कि वे परवाह नहीं करते.
यदि आप मानसिक शांति के बदले में साम्राज्य भी प्राप्त करते हैं तो भी आप पराजित ही हैं.
अपनी खराब आदतों पर जीत हासिल करने के समान जीवन में कोई और आनन्द नहीं होता है.
आज की शुरुआत कल के टूटे टुकड़ों से न करें.
यदि आप अमीर होने की अनुभूति चाहते हैं तो उन वस्तुओं पर विचार करें जो जिन्हें पैसे से नहीं खरीदा जा सकता है.
आपकी प्रतिभा भगवान का आपको दिया हुआ उपहार है. आप जो कुछ इसके साथ करते हैं, वह आप भगवान को उपहार स्वरूप लौटाते हैं.
रुकावटें वे भयावह वस्तुएं हैं जो आप उस समय देखते हैं जब आप अपने लक्ष्य से ध्यान हटा लेते हैं.
यदि आप मानसिक शांति के बदले में साम्राज्य भी प्राप्त करते हैं तो भी आप पराजित ही हैं.
धमनियों की कठोरता की तुलना में दिलों की कठोरता से लोग जल्दी बूढ़े होते हैं




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें