मंगलवार, 28 जुलाई 2015

डॉ ए .पी .जे अब्दुल कलाम के अनमोल विचार









 डॉ ए. पी. जे अब्दुल कलाम के अनमोल विचार 


१)अपनी पहली सफलता के बाद आराम मत करो ,क्योंकि अगर तुम अब असफल हो गए तो लोगों को यह कहने का मौका मिलेगा कि तुम्हारी  पहली सफलता बस भाग्य के कारण थी |
२ )दुनियाँ के बेहतरीन दिमाग क्लास की आखिरी बेंच पर भी पाए जा सकते हैं |
३ ) अपने काम से प्यार करो कंपनी से नहीं ,क्या पता कब तुम्हारी कंपनी तुम्हे प्यार करना बंद कर दे |
४ )सपने वो नहीं जो आप सोते हुए देखते हैं बल्कि सपने वो हैं जिनके लिए आप सोना छोड़ दे |
५ )सब चिड़ियाँ बारिश में आश्रय ढूंढती हैं पर ईगल नहीं क्योंकि वो बादलों से ऊपर उड़ने लगती है | समस्याएं वहीँ हैं केवल आप का रवैया सारा अंतर उतपन्न  करता है |
६ )शिखर पर पहुचने के लिए शक्ति की जरूरत होती है |चाहे वो पर्वत का शिखर हो या कैरियर का |
७ )काला रंग निराशा का प्रतीक है पर इसी काले रंग का ब्लैक बोर्ड कितने विद्यार्थियों के जीवन में उजाला लाता है |
८ )कठिनाइयां आप के जीवन में इसलिए नहीं आती कि वो आप को नष्ट करे बल्कि इस लिए आती हैं कि आप आप की छुपी हुई क्षमताएं व् शक्ति बाहर निकल कर आ सके और कठिनाइयों को दिखा सके कि आप उनसे ज्यादा कठिन हैं |
९ ) स्वप्न देखो ,क्योंकि स्वप्न विचारों में बदलते हैं और विचार क्रिया में |
१० )अगर आप अपने काम को सलाम करते हैं तो आप को किसी के आगे झुकने की जरूरत नहीं हैं | अगर आप अपने काम के साथ बेईमानी करते हैं तो आप को हर किसी को सलाम करना पड़ेगा |
११ )हम सब के पास बराबर प्रतिभा नहीं होती है पर हम सब के पास अपनी प्रतिभा को निखारने के बराबर अवसर होते हैं |
१२ )आत्मविश्वास और कठोर परिश्रम  ही वो दवाएं हैं जो असफलता नमक बीमारी को दूर करती हैं
१३ ) सफलता वो है जब हमारे दस्तखत औटोग्राफ में बदल जाए |
१४  )किसी को परस्त कर देना बहुत आसान है पर किसी को जीत लेना बहुत मुश्किल |
१५ )इंतज़ार करने वालों को उतना ही मिलता है जितना कोशिश करने वाले पीछे छोड़ देते हैं |

अटूट बंधन परिवार की ओर से डॉ ए .पी जे .अब्दुल कलाम को भावभीनी श्रधांजली 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें