शनिवार, 28 फ़रवरी 2015

सद्विचार


१ )सबसे ज्यादा बहादुर लोग  क्षमाशील  और झगड़े को टालने वाले होते हैं। ……थैकरे 

२ )एक शब्द और लगभग सही शब्द में उतना ही अंतर है जितना रोशिनी और जुगनू में … मार्क ट्वेन


३ )सांप के दांत में विष रहता है ,मक्खी  के सर में ,बिच्छू की पूँछ में किन्तु दुर्जनों के सरे शरीर में विष रहता है .... अज्ञात   


४ )सफल होने के लिए असफलता आवश्यक है ताकि आप को यह पता चल सके की अगली बार क्या नहीं करना है। .......... एंथोनी जे डीएंजेलो 


५ )समझोता एक अच्छा छाता भले ही बन सकता है लेकिन एक अच्छी छत नहीं। .... अज्ञात 


६ )किसी के गुणों की प्रशंशा करने में समय मत बर्बाद करो अपितु उसके गुणों को अपनाने में समय का सदपयोग करो। ...................... कार्ल मार्क्स 


७ )हंसमुख व्यक्ति वह फुहार है जिसके छींटे सबको ठंडा करते हैं। ………… अज्ञात 


८ )आशा अमर है उसकी आराधना कभी निष्फल नहीं होती। …………महात्मा गाँधी 


९ )वह मनुष्य वास्तव में बुद्धिमान है जो क्रोध के समय भी गलत बात मुंह से नहीं निकालता है। .... शेख सादी


१० ) आपको अपने भीतर से ही विकास करना होता है। कोई आपको सीखा नहीं सकता, कोई आपको आध्यात्मिक नहीं बना सकता। आपको सिखाने वाला और कोई नहीं, सिर्फ आपकी आत्मा ही है।.………… स्वामी विवेकानंद 


११ )  जिसके पास धैर्य है वह जो चाहे वो पा सकता है.…… बेंजामिन  फ्रैंकलिन



१२ )बीस वर्ष की आयु में व्यक्ति का जो चेहरा रहता है, वह प्रकृति की देन है, तीस वर्ष की आयु का चेहरा जिंदगी के उतार-चढ़ाव की देन है लेकिन पचास वर्ष की आयु का चेहरा व्यक्ति की अपनी कमाई है।
- अष्टावक्र  
गूगल से विभिन्न श्रोतों से साभार 
चित्र गूगल से साभार        

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें